हम मिलें

तोड़ कर हद , ज़माने की ,
हम कहीं दूर , सितारों में मिलें ,

बहा लाए , वहीं , वक़्त फिर से ,
बिछड़ी कश्ती से हम, किनारों पे मिलें ,

हों , रस्म-ए-दुनिया , से रिहा हम-तुम ,
साथ गुलशन में जब , बहारों में खिलें ,

छोड़ जाए , ये ज़िक्र , हीना की खुशबू ,
फूल जब-जब , तेरी किताबों में मिलें ,

तोड़ कर हद , ज़माने की ,
हम कहीं दूर , सितारों में मिलें ।


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

13 Comments

  1. देवेश साखरे 'देव' - December 15, 2019, 6:20 pm

    बहुत खूब

  2. Abhishek kumar - December 15, 2019, 10:34 pm

    Good

  3. Amod Kumar Ray - December 16, 2019, 1:50 am

    Good

  4. Pt, vinay shastri 'vinaychand' - December 16, 2019, 6:01 am

    Nice

  5. Pragya Shukla - December 16, 2019, 10:40 am

    Good

  6. Poonam singh - December 16, 2019, 2:43 pm

    Good

  7. Satish Pandey - July 13, 2020, 10:38 am

    वाह, वाह

  8. Satish Pandey - July 13, 2020, 10:38 am

    अतिसुन्दर

Leave a Reply