4 Liner#4

0

क्यों नहीं कहता जो फ़साना है तेरा ये कैसा बेमान अफसाना है तेरा
क्यों बना बैठा है वो बुत जो पूजा जाये ये किसकी परस्ती है की वो छा जाये
क्यों नहीं तोड़ता तू ये तमाम बेड़ियांक्यों नहीं छोड़ता तू ये तमाम देहरियां
तेरी बेईमानी तेरा इमान क्यों है ऐ दिल, तू इतना बेजुबान क्यों है

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Hi, I am Vikas Bhanti. A Civil Engineer by proffession by poet by heart. Kindly like my page on FB and subscribe my YouTube channel for updates

11 Comments

  1. Sumit Nanda - November 15, 2015, 1:11 am

    kya baat kahi appne…pad kar dil khush ho gaya 🙂

    • Vikas Bhanti - November 15, 2015, 1:15 am

      Sumit ji thank u… tarkash me kai teer hain abhi to

      • Sumit Nanda - November 15, 2015, 1:19 am

        aapke teeron se ghayal hone ko betaab baithe he sir

      • Vikas Bhanti - November 15, 2015, 1:22 am

        Sir, ghayal ho gye to humari 4 liners par comment kaun karega

      • Sumit Nanda - November 15, 2015, 1:27 am

        ghayal hokar hi to ghayal comment kar paaenge janab..

      • Vikas Bhanti - November 15, 2015, 6:47 am

        well jokes apart, tnx for such big love…

  2. Ajay Nawal - November 15, 2015, 3:36 pm

    nice bro!

  3. पंकजोम " प्रेम " - November 15, 2015, 5:26 pm

    ब्रह्मास्त्र का इंतजार है…….

  4. राम नरेशपुरवाला - September 30, 2019, 10:16 pm

    वाह

Leave a Reply