Hindi divas

राष्ट्रभाषा हिंदी
—————–
है शान मेरी, पहचान मेरी ,
देवो के स्वर सी,
ज्ञानमयी।

हम जन्मे है इस भूमि पर ,
जहां देवनागरी बोली है।
कई भाषाओं की हमजोली है।

जग में देती है मान हमें ,
हिंदी भाषी सम्मान हमें ।
कहला देती इस दुनिया में,
भारत माता के लाल हमें।

अपनी भाषा पर गर्व हमें,
बसता जिसमें संगीत मधुर ,
साजो की बजती धुन सी है ।
घुंघरू की छनक सी मोहक है,
माथे पर शोभित बिंदी है।

हां !भाषा हमारी हिंदी है ।
राष्ट्रभाषा हमारी हिंदी है।

निमिषा सिंघल

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

9 Comments

  1. Poonam singh - September 14, 2019, 3:53 pm

    Nice

  2. देवेश साखरे 'देव' - September 14, 2019, 4:24 pm

    सुंदर रचना

  3. महेश गुप्ता जौनपुरी - September 14, 2019, 9:02 pm

    वाह बहुत बढ़िया

  4. राम नरेशपुरवाला - September 15, 2019, 11:48 am

    Good

  5. DV - October 4, 2019, 5:41 pm

    सुंदर रचना

Leave a Reply