“देखा नहीं तुमने”

“देखा नहीं तुमने”

ღღ_ख़ुद से लेते हुए इन्तक़ाम, देखा नहीं तुमने;
अच्छा हुआ मेरा अस्क़ाम, देखा नहीं तुमने!
.
उतर ही जाता चेहरा मेरा, शर्म से उसी दम;
अच्छा हुआ मेरा अन्जाम, देखा नहीं तुमने!
.
कल रात को हर ख़्वाब से, लड़ गया था मैं;
अच्छा हुआ मेरा इत्माम, देखा नहीं तुमने!
.
रोया था मैं ही चीखकर, ख़्वाबों की मौत पे;
अच्छा हुआ ये ग़म तमाम, देखा नहीं तुमने!
.
सुबह तक पड़े रहे, टुकड़े ख्वाबों की लाश के;
अच्छा हुआ मुझे नाकाम, देखा नहीं तुमने!
.
मैंने ही ‘अक्स’ आग दी, मैं ही था शमशान में;
अच्छा हुआ सोज़—ए-निहाँ, देखा नहीं तुमने!!…..#अक्स
.
शब्द…………………..अर्थ
.
अस्क़ाम = बुराईयाँ, कमियां
इत्माम = प्रवीणता, सिद्धि
सोज़-ए-निहाँ = जलने के निशान


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

A CA student by studies, A poet by passion, A teacher by hobby and a guide by nature. Simply I am, what I am !! :- "AkS"

Related Posts

मेरे भय्या

लंबी इमारतों से भी बढकर, कचरे की चोटी हो जाती है

लंबी इमारतों से भी बढकर, कचरे की चोटी हो जाती है

तकदीर का क्या, वो कब किसकी सगी हुई है।

4 Comments

  1. Neelam Tyagi - August 30, 2016, 2:09 pm

    Very nice ghazal…

  2. महेश गुप्ता जौनपुरी - September 9, 2019, 7:41 pm

    वाह बहुत सुंदर

Leave a Reply