बदनामी का भय, न मान-हानि का डर .

बदनामी का भय, न मान-हानि का डर .
वहीं है जग में सबसे ज्यादा प्रसन्न ।।1।।
——————————————————
मन-माया से उपर है ब्रह्म ।
नर ही नारायण है,
जब नर को ना हो मन-माया से डर ।।2।।
—————————————————
जब मन माया से मात खाती है ,
तब इंसां का ब्रह्मचर्य व्रत टूटता है ।।3।।
—————————————————-
असंभव पथों पे चलके, जिसने मंजिल पायी है
सच में वहीं कर्मयोगी कहलाया है ।।4।।
——————————————————
जिन्दगी में एक ऐसा मोड सबको आता है
जिस मोड़ पे चलके नर खूद को पाता है ।।5।।
श्री राम ।।

Related Articles

दुर्योधन कब मिट पाया:भाग-34

जो तुम चिर प्रतीक्षित  सहचर  मैं ये ज्ञात कराता हूँ, हर्ष  तुम्हे  होगा  निश्चय  ही प्रियकर  बात बताता हूँ। तुमसे  पहले तेरे शत्रु का शीश विच्छेदन कर धड़ से, कटे मुंड अर्पित करता…

ब्रह्मचर्य

सर्वदा होश की अवस्था हैं ब्रह्मचर्य विषयों से अनासक्त का नाम हैं ब्रह्मचर्य पूर्व संस्कार का पूर्ण रुपेण त्याग हैं ब्रह्मचर्य ब्रह्मचर्य कुछ भी नहीं…

ब्रह्मचर्य

सर्वदा होश की अवस्था हैं ब्रह्मचर्य विषयों से अनासक्त का नाम हैं ब्रह्मचर्य पूर्व संस्कार का पूर्ण रुपेण त्याग हैं ब्रह्मचर्य ब्रह्मचर्य कुछ भी नहीं…

Responses

  1. असंभव पथों पे चलके, जिसने मंजिल पायी है
    सच में वहीं कर्मयोगी कहलाया है ।।4।।
    ________ जीवन के यथार्थ से अवगत कराते हुए कवि विकास जी ने एक कर्म योगी को परिभाषित किया है और मोह माया से मन को दूर रखने की अति सुंदर रचना रची है… बहुत उम्दा लेखन

  2. असंभव पथों पे चलके, जिसने मंजिल पायी है
    सच में वहीं कर्मयोगी कहलाया है ।
    —– बहुत सुन्दर रचना।

New Report

Close