मुश्किलें बस ये दिखाने को..

‘हैं जबकि और भी कितने ही दर ज़माने में,
क्यूँ फकत मेरे ठिकाने को चली आती हैं..
कितने मौजूद मददगार हैं यहाँ तेरे,
मुश्किलें बस ये दिखाने को चली आती हैं..’

– प्रयाग

मायने :
फकत – सिर्फ

Related Articles

देश दर्शन

शब्दों की सीमा लांघते शिशुपालो को, कृष्ण का सुदर्शन दिखलाने आया हूं,                                  मैं देश दिखाने आया हूं।। नारी को अबला समझने वालों को, मां…

हैरानी सारी हमें ही होनी थी – बृजमोहन स्वामी की घातक कविता।

हैरानी कुछ यूँ हुई कि उन्होंने हमें सर खुजाने का वक़्त भी नही दिया, जबकि वक़्त उनकी मुट्ठियों में भी नही देखा गया, लब पर…

Responses

  1. बहुत ख़ूब…
    रहिमन विपदा हो भली,जो थोड़े दिन होय,
    हित – अनहित या जगत में जानी परत सब कोय।
    ————– रहीम दास जी के दोहे को चरितार्थ करती बहुत सुंदर रचना।

New Report

Close