“ख़ुदकुशी” #2Liner-101

ღღ__न जाने किस कशिश से कब्र ने, पुकारा था आज “साहब”;
.
कि ना चाहते हुए भी मुझको, आज ख़ुदकुशी करनी पड़ी!!…‪#‎अक्स‬
.

Related Articles

Responses

  1. इक ‘अक्स’ है जो खुदकुशी करता रहता है …./…..
    और इक हम है जिन्हे कभी मौत आती नहीं!

New Report

Close