ღ दर्द ღ #2Liner-5

ღღ__दर्द की चाशनी में, डुबोना भी पड़ता है “साहब”;
.
महज़ इल्म की शायरी में, मिठास नहीं आती !!……..‪#‎अक्स‬

“इल्म = ज्ञान”

Related Articles

Responses

  1. शायरी इल्म से नही, दिल से होती है
    जब तक न हो इसमें इश्क का नशा
    शेर कहने में नहीं आता मज़ा…

New Report

Close