You can follow me on my blog https://about.me/niteshkc

तुम्हारी याद में खोकर बहकना खूब आता है ,
हकीकत में मुझे फिर भी संभलना खूब आता है !
तुम्हारी जान इस पानी के जिस मछली में बसती है ,
उसी मछली के जैसे अब मचलना खूब आता है !!

Related Articles

जागो जनता जनार्दन

http://pravaaah.blogspot.in/2016/11/blog-post_75.htmlसमाज आज एक छल तंत्र की ओर बढ़ रहा है प्रजातंत्र खत्म हुआ। अराजकता बढ़ रही, बुद्धिजीवी मौन है या चर्चारत हे कृष्ण फिर से…

Responses

New Report

Close