You can follow me on my blog https://about.me/niteshkc

तुम्हारी याद में खोकर बहकना खूब आता है ,
हकीकत में मुझे फिर भी संभलना खूब आता है !
तुम्हारी जान इस पानी के जिस मछली में बसती है ,
उसी मछली के जैसे अब मचलना खूब आता है !!

Related Articles

जागो जनता जनार्दन

http://pravaaah.blogspot.in/2016/11/blog-post_75.htmlसमाज आज एक छल तंत्र की ओर बढ़ रहा है प्रजातंत्र खत्म हुआ। अराजकता बढ़ रही, बुद्धिजीवी मौन है या चर्चारत हे कृष्ण फिर से…

दुर्योधन कब मिट पाया:भाग-34

जो तुम चिर प्रतीक्षित  सहचर  मैं ये ज्ञात कराता हूँ, हर्ष  तुम्हे  होगा  निश्चय  ही प्रियकर  बात बताता हूँ। तुमसे  पहले तेरे शत्रु का शीश विच्छेदन कर धड़ से, कटे मुंड अर्पित करता…

Responses

New Report

Close