चंद शेर

चंद शेर /मुक्तक

लाख करो साजिस बुनियाद हिन्द कोई हिला सकता नही |
क्रांतिबिरो बलिदान जवानो सहादत कोई भुला सकता नहीं |
श्याम कुँवर भारती [राजभर]

भारत की मिट्टी माथे तिलक चंदन लगाएंगे हम |
मातृभूमि के चरणों वंदनऔर सिस झुकाएँगे हम |
खाया नमक इस धरती नहीं नमक हरामी करेंगे |
जान जाये तो जाये बदला नमक चुकायेंगे हम |
श्याम कुँवर भारती [राजभर]

अखंड भारत खंड खंड क्या टुकड़े गैंग करेंगे |
छप्पन इंची सिनावाला नेटवर्क इनका हैंग करेंगे |
श्याम कुँवर भारती [राजभर]

हिला ना सकागे बुनियाद भारत जितना ज़ोर लगाके देख लो |
जल जाओगे खुद ही ताबे हिन्द मजहबी आग लगाके देख लो |
श्याम कुँवर भारती [राजभर]

है चट्टानी फौलादी इरादा नाम दुनिया हिदुस्तान रहेगा |
टकराएगा जो हमसे नामो नीसान ना चीन पाकिस्तान रहेगा |
श्याम कुँवर भारती [राजभर]

लहराएगा दूर गगन मगन हमारा झण्डा तिरंगा |
थर्राएगा दूर दुशमन जय पतित पावनी माता गंगा |
श्याम कुँवर भारती [राजभर]

Related Articles

दुर्योधन कब मिट पाया:भाग-34

जो तुम चिर प्रतीक्षित  सहचर  मैं ये ज्ञात कराता हूँ, हर्ष  तुम्हे  होगा  निश्चय  ही प्रियकर  बात बताता हूँ। तुमसे  पहले तेरे शत्रु का शीश विच्छेदन कर धड़ से, कटे मुंड अर्पित करता…

Responses

New Report

Close