“देर तलक”

ღღ_कल फ़िर से दोस्तों ने, तेरा ज़िक्र किया महफ़िल में;
कल फ़िर से अकेले में, तुझे सोंचता रहा मैं देर तलक!
.
कल फ़िर से तेरी यादों ने, ख़्वाबों की जगह ले ली;
कल फ़िर से मेरे यार, तुझे देखता रहा मैं देर तलक!
.
कल फ़िर से तेरी गली में, भटकने की आरज़ू हुई;
कल फिर से एक बार, ख़ुद को रोकता रहा मैं!
.
कल फिर से तेरा एहसास, मुझे छूकर गुज़र गया;
कल फिर से तेरी तलाश में, यूँ ही भागता रहा मैं!
.
कल फिर से मैंने नींद से, वादा कियां था सोने का;
कल फिर नींद में “अक्स”, जागता रहा मैं देर तलक!!…..‪

#‎अक्स‬


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

A CA student by studies, A poet by passion, A teacher by hobby and a guide by nature. Simply I am, what I am !! :- "AkS"

Related Posts

मेरे भय्या

लंबी इमारतों से भी बढकर, कचरे की चोटी हो जाती है

लंबी इमारतों से भी बढकर, कचरे की चोटी हो जाती है

तकदीर का क्या, वो कब किसकी सगी हुई है।

6 Comments

  1. Ushesh Tripathi - July 4, 2016, 5:12 pm

    aapki language me simply amazing

  2. Avantika Singh - July 8, 2016, 10:30 pm

    nice line

Leave a Reply